You are currently viewing अर्क विवाह पूजा उज्जैन की पूरी जानकारी

अर्क विवाह पूजा उज्जैन की पूरी जानकारी

कुंडली के मुख्य दोषों में से एक मंगल दोष को ठीक करने के कई तरीके हैं, लेकिन इन दिनों विवाह में इसका महत्व अधिक स्पष्ट होता जा रहा है। लंबे समय से यह सोचा जाता रहा है कि एक मांगलिक दूल्हे को एक मांगलिक दुल्हन से शादी करनी चाहिए, या मांगलिक दोष वाली कुंडलियों का मिलान करना चाहिए; हालाँकि, यह कुछ पहलुओं में गलत है, क्योंकि कभी-कभी ऐसा करने से दोष दोगुना हो जाता है। परिणामस्वरूप, वर-वधू का जीवन अप्रिय हो जाता है।

इसका परिणाम यह होता है कि वर-वधू का जीवन कठिन हो जाता है; हालाँकि, यदि जोड़े की उम्र तीस वर्ष से अधिक है या यदि दूसरे व्यक्ति की कुंडली में शनि, राहकेतु या सूर्य उसी स्थान पर है जहां वर या वधू का मंगल है, तो मंगल भी मौजूद है। -दूसरी कुंडली में मंगल-दोष न होने पर भी दोष नहीं माना जाता। यदि वर-वधू के गुण मिलान में गुणों की संख्या 30 से अधिक हो तो मंगल दोष नहीं माना जाता है, लेकिन यदि किसी की कुंडली में इनमें से कोई भी गुण मौजूद नहीं है, तो वर-वधू को सुखी विवाह के लिए स्वयं को भाग्यशाली मानना चाहिए।

अर्क विवाह मांगलिक पुरुषो के लिया किया जाता है इस लेख मे हम आपको बताने वाले है की अर्क विवाह क्या है और अर्क विवाह पूजा उज्जैन मे कैसे कराई जाती है।

अर्क विवाह क्या होता है?

अर्क विवाह पूजा उज्जैन मे कैसे कराए 5

जिन पुरुषों की कुंडली में सातवां या बारहवां घर दुष्ट ग्रहों द्वारा घुसपैठ कर रखा हो या शुक्र, सूर्य,सप्तमेश या द्वादशेश आदि द्वारा लक्षित है। वैकल्पिक रूप से, ऐसे मामलों में जब दूल्हे की कुंडली में मंगल दोष हो (मंगल 1, 2, 4, 7, 8,12 घर में हो),तो यह वैवाहिक विलंब, और रुकावट का संकेत दे सकता है।  ऐसे पुरुषो के माता पिता या अन्य स्नेही सम्बन्धी जनको को उस वर का विवाह पूर्व अर्क विवाह करवाना चाहिए।

यदि किसी पुरुष के विवाह में किसी भी प्रकार की देरी या अन्य दोषों को दूर करने और विवाह संबंधी किसी भी समस्या से राहत पाने के लिए लड़के की शादी सूर्य की बेटी, जो अर्क वृक्ष के आकार में मौजूद है, से करवानी चाहिए यह वैवाहिक व्यवस्था, जिसे अर्क विवाह के नाम से जाना जाता है, अर्क विवाह पूजा सम्पन्न करने से आपकी कुंडली से समस्त दोष का निवारण किया जा सकता है और विवाह मे किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं आती है।

अर्क विवाह पूजा सम्पन्न कराने के लिए संपर्क करे- 9827265140

अर्क विवाह कब करना चाहिए?

अर्क विवाह पूजा उज्जैन मे कैसे कराए 1 1

ज्योतिष शास्त्र कहता है कि अर्क विवाह तभी संपन्न होता है जब लड़के की कुंडली में मांगलिक दोष हो। अर्क विवाह के लिए प्रथम पूजा में अर्क के पौधे का उपयोग किया जाता है। इसके साथ ही मंगल और सूर्य जाप भी समाप्त हो जाता है। अर्क विवाह शनिवार, रविवार या हस्त नक्षत्र में करने की शास्त्र सम्मत सलाह है। ऐसा माना जाता है कि सूर्य कन्या अर्क वृक्ष और उनकी कुंडली में मांगलिक दोष वाले व्यक्ति के बीच विवाह को अर्क विवाह के रूप में जाना जाता है।

अर्क विवाह के कुछ नियम:

  • अगर किसी लड़के ने दो बार शादी की है और उसकी दोनों पत्नियों की मृत्यु हो गई है, तो दोबारा शादी करने से पहले ‘अर्क विवाह’ करना जरूरी है।
  • अर्क विवाह से विवाह में देरी या अन्य दोष दूर हो जाते हैं।
  • विवाह के लिए तारे और चंद्रमा का सामंजस्य होना चाहिए।

अर्क विवाह पूजा एक बहुत ही लाभदायक पूजा जिसके सम्पूर्ण कराने के बाद आप अपने विवाह मे कोई समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है और आपकी जानकारी के लिए बता दे की अर्क विवाह की पूजा के लिए उज्जैन सबसे सर्वश्रेष्ठ स्थान है।

अर्क विवाह पूजा के लाभ

अर्क विवाह पूजा से होने वाले लाभ व फायदे निम्नलिखत है-

  • अर्क विवाह पूजा द्वारा पुरुष के विवाह मे आ रही सभी समस्याए और बाधाए समाप्त हो जाती है।
  • अर्क विवाह पूजा पुरुषो की  कुंडली से मांगलिक दोष को समाप्त करने के लिए भी किया जाता है।
  • विवाह में आने वाली बाधाओं को दूर करने और सुखमय दाम्पत्य जीवन प्रदान करने में मददगार माना जाता है।

अर्क विवाह पुजन सामाग्री

भगवान की तस्वीर या प्रतिमाहवन सामग्री
दूर्वा-ताजे़ फूलसिंदूर और मंगलसूत्र
कलशगठबंधन के लिए ज़रूरी समान
फल-मेवेपीली सरसों
जनेऊनवग्रह चावल
घीइत्र

किसी भी प्रकार की सामग्री खरीदने से पहले एक बार अपने पंडित जी से जरूर बात करे ताकि आपको बाद मे किसी भी प्रकार की कोई समस्या न आए।

अर्क विवाह पूजा उज्जैन

अर्क विवाह पूजा उज्जैन मे कैसे कराए 2 1

उज्जैन सभी प्रकार की पूजा के लिए पूरे भारत में आदर्श स्थान है। क्योकि उज्जैन मे भगवान शिव (महाकाल के रूप में) यहाँ महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के रूप में विद्यमान हैं,फलस्वरूप यहां किया गया अर्क विवाह संस्कार तुरंत सफल होता है। यहां सभी देवी-देवता गुप्त रूप से निवास करते हैं। यहीं पर सभी इच्छाएं पूरी होती हैं। उज्जैन के प्रसिद्ध पंडित मंगलेश शर्मा जी, जो सभी प्रकार की सफल पूजाएँ आयोजित करते हैं, का एक बहुत ही विशेष स्थान है, जो कुंभ विवाह और अर्क विवाह के स्थान के रूप में कार्य करता है। यहां पूजा करने के बाद आप इस योग से शाश्वत मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं।

यदि आप की कुंडली मे भी यहाँ योग है तो अर्क विवाह पूजा करवाना अति अवशयक है, कुम्भ विवाह पुजा कराने के लिए आप पंडित मंगलेश शर्मा जी से संपर्क कर सकते है पंडित जी के पास समस्त प्रकार की पूजा को सम्पूर्ण करने का 15 साल का अनुभव है और पंडित जी ने अपने सभी जातको को उचित परिणाम प्रदान किये है।

अभी अपनी अर्क विवाह पूजा पंडित जी के साथ बूक करने के लिए नीचे दी गयी बटन पर क्लिक करे और अभी पंडित जी से बात करे और अन्य किसी प्रकार की समस्या के समाधान के लिए मुफ्त परामर्श प्राप्त करे।

Call Pandit Ji

Leave a Reply