You are currently viewing कालसर्प दोष के लक्षण और निवारण उपाय

कालसर्प दोष के लक्षण और निवारण उपाय

कालसर्प दोष के लक्षण और निवारण उपाय, ज्योतिष शस्त्र मे कालसर्प दोष को बहुत ही खतरनाक योग माना जाता है अगर यह दोष किसी मनुष्य की कुंडली मे परिलक्षित हो जाता है तो उनका पूरा जीवन अचानक से सम्पूर्ण रूप से बदल जाता है और उनके दैनिक जीवन परेशानी और समस्याओं से घिर जाता है। इस लेख के माध्यम से हम आपको कालसर्प दोष के लक्षण और निवारण उपाय के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी प्रदान कराएंगे, इनको समझकर आप भी जान सकते है कही आपकी कुंडली मे भी कालसर्प दोष तो नहीं है।

कालसर्प दोष के लक्षण

कालसर्प दोष के लक्षण

कालसर्प दोष को मानने वाले ज्योतिषियों के अनुसार ग्रहों की यह स्थिति व्यक्ति के जीवन में कई तरह की परेशानियां और बाधाएं पैदा कर सकती है। इनमें वित्तीय कठिनाइयाँ, स्वास्थ्य समस्याएँ, वैवाहिक समस्याएँ और यहाँ तक कि छोटा जीवनकाल भी शामिल हो सकता है।

कालसर्प दोष कुंडली मे होने के लक्षण कुछ इस प्रकार है-

  • कालसर्प दोष से पीड़ित व्यक्ति मे मन मे हमेशा नकारात्मक विचार आते है। 
  • जातक की कुंडली मे कालसर्प दोष होता है तो उसके पारिवारिक जीवन मे सदैव तनाव की स्थिति बनी रहती है। 
  • व्यापार में अड़चने बनी रहती हैं, लगातार घाटे का सामना करना पड़ता है।
  • जातक के दुश्मनों की संख्या मे सदेव बड़ोत्तरी होती रहती है। 
  • जिन लोगों को अपने कुंडली में कालसर्प दोष होता है, वे अनियमित नींद से पीड़ित होते हैं, यानी वे सोते समय कई बार उठते हैं।
  • जातक को रात मे सोते समय ज्यादातर सांप के सपने आते है। 
  • जिनकी कुण्डली में कालसर्प दोष का प्रभाव होता है उन्हें पारिवारिक कलह का सामना करना पड़ता है।
  • जातक को सभी प्रयास और कड़ी मेहनत करने के बाद भी सफलता नही मिलती है। 
  • जातक के दुश्मनों की संख्या मे सदेव बड़ोत्तरी होती रहती है। 
  • बात-बात पर जीवनसाथी से वाद विवाद होना।
  • काल सर्प दोष के कारण व्यक्ति मानसिक और शारीरिक रूप से परेशान होता है। साथ ही सिर दर्द, त्वचारोग आदि भी कालसर्प दोष के लक्षण है।

कुंडली मे कालसर्प दोष होने के संकेत

  • कालसर्प दोष के जातक को जीवन मे संघर्ष करना पड़ता है और जरूरत के समय अकेलापन महसूस करते है।
  • कालसर्प योग के प्रभाव में जातकों को सर्प और सर्प दंश का भय सताता है। वे सपने में खुद को सांपों द्वारा कुंडलित किए जाने का सपना देखते हैं।
  • जातक को महसूस होता है की उन्हे कोई रोक रहा है।
  • कालसर्प योग से पीड़ित जातक की कुंडली में संतान संबंधी समस्या होती है। 
  • यदि किसी की जन्म कुंडली में कालसर्प योग है तो उसे आमतौर पर अपने सपनों में मृत लोगों की तस्वीरें दिखाई देती हैं। वे अपने मृत पूर्वजों या हाल ही में परिवार के वर्तमान सदस्यों को देखते हैं।
  • जातक एयरो एक्रोफ़ोबिया से भी पीड़ित हो सकता हैं, जिसमे ऊँची जगहों का डर या एकांत जगहों से डर लगता है। 

कालसर्प दोष निवारण उपाय

कालसर्प दोष के उपाय

कालसर्प दोष निवारण के उपायो को अपनाकर आप कालसर्प दोष के दुशप्रभावों को कम कर सकते है और अपने दैनिक जीवन मे आ रही समस्याओं से कुछ समय के लिए मुक्त हो सकते है,

कालसर्प दोष के निवारण उपाय कुछ इस प्रकार है-

  1. महा मृत्युंजय मंत्र का प्रतिदिन 108 बार जाप करें। यह आपके दिल को सकारात्मक विचारों और आत्मविश्वास से भर देगा।
  2. व्यक्ति को नाग पंचमी का व्रत करना चाहिए ताकि कालसर्प दोष के नकारात्मक प्रभावों से बचा जा सके।
  3. विष्णु सहस्रनाम का जाप करें।
  4. राहु के बीज मंत्र का 108 बार जाप करना और हाथ में सुलेमानी की डोरी रखना।
  5. धातु के बने नाग और नागिन के 108 जोड़े नदी में प्रवाहित करें। सोमवार के दिन रुद्राभिषेक करना लाभकारी उपाय है।
  6. कालसर्प गायत्री मंत्र का जाप भी महत्वपूर्ण है।
  7. महा मृत्युंजय मंत्र का जाप दिन में दो बार 11 बार करें।
  8. ॐ नागकुलाय विद्महे विषदंताय धीमहि तन्नो सर्प प्रचोदयात‘ का जाप करें।
  9. ज्योतिषी के परामर्श से राहु और केतु की पूजा करें।
  10. नाग पंचमी के अवसर पर शिव मंदिर की करें सफाई
  11. सोमवार के दिन शिवलिंग पर दूध और जल चढ़ाकर रुद्र-अभिषेक करना।
  12. राहु के बीज मंत्र का 108 बार जाप करना और हाथ में सुलेमानी की डोरी रखना।
  13. प्रत्येक श्रावण मास में शिवलिंग का जलाभिषेक करें।
  14. 11 सोमवार का व्रत रखें।

इन सभी उपायो को कर आप कालसर्प दोष के दुष्प्रभाव को कुछ समय के लिए कम कर सकते है,लेकिन आप कालसर्प दोष से हमेशा-हमेशा के लिए मुक्ति पाना चाहते है तो उसका एकमात्र उपाय है कालसर्प दोष निवारण पूजा, कालसर्प दोष की पूजा के लिए कई सारे स्थान है लेकिन जिस स्थान को बहुत ज्यादा विशेष महत्व दिया जाता है, वो है उज्जैन अगर आप उज्जैन मे कालसर्प दोष पूजा सम्पन्न कराते है तो आपको निश्चित रूप से अच्छे परिणाम मिलेंगे।

कालसर्प दोष पूजा उज्जैन मे कैसे कराये

कालसर्प दोष पूजा उज्जैन मे कैसे कराये

अगर आप उज्जैन मे कालसर्प दोष निवारण पूजा करवाना चाहते है, तो ज्योतिषाचार्य मंगलेश शर्मा जी  से संपर्क कर सकते है, और पंडित जी को अपनी कुंडली व परेशानिया जो आपके जीवन मे आ रही है वो बता करके कालसर्प दोष और इसके निवारण के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते है

 ज्योतिषाचार्य मंगलेश शर्मा जी से मुफ्त परामर्श, कुंडली दिखने व पूजन संबन्धित जानकारी प्राप्त करने के लिए नीचे दी गयी बटन पर क्लिक करे।

Call Pandit Ji



कालसर्प क्यों लगता है?

ज्योतिषी शस्त्र के अनुसार पूर्वजन्म मे किए गए किसी घोर पाप या अपराध के फलस्वरूप मनुष्य की कुंडली मे परिलक्षित होता है।

कालसर्प दोष योग कब बनता है?

जब मानुषय की कुंडली के सारे गृह राहू और केतू के बीच मे आ जाते है तब उनकी कुंडली मे कालसर्प योग बनता है।

कालसर्प दोष की पूजा कहाँ होती है?

कालसर्प दोष निवारण की पूजा उज्जैन मे होती है।

Leave a Reply